web analytics

अस्पताल में अमरीशपुरी की हालात हो गयी थी बेहद भयानक

अस्पताल में अमरीशपुरी की हालात हो गयी थी बेहद भयानक

अमरीशपुरी का जनम 22 जून 1932 को पंजाब के जालंधर में हुआ था। और इनका एक भाई था जिसका नाम था मदनलाल पूरी। और अमरीशपुरी का एक बेटा और एक बेटी थी। बेटे का नाम राजीव पूरी और बेटी का नाम था नर्मता। उन्होंने शिमला में अपनी बी.ए पास की। उन्होंने अपने करियर के शरुवात श्रर्म मंत्रालय से की और साथ साथ में सत्यदेव दुबे के नाटकों में भी काम किया।

 

साल 1971 में उन्होंने खलनायक के तौर पर अपनी पहली फ़िल्म में डेब्यू किया। अमरीश पूरी को अपनी आवाज के कारण बॉलीवुड में काम नहीं मिलता था। उनकी बॉलीवुड में पहली फ़िल्म रेशमा और शेरा थी। लेकिन वो उस फ़िल्म से लोगो में अपनी कुछ खास पहचान नहीं बना सके। अमरीश पूरी ने ज्यादातर फिल्मो में खलनायक के ही रोल किये है।

उस ज़माने के महसूर बैनर बॉम्बे टर्किज में कदम रखने के बाद ही उन्हें बड़े परदे पर फ़िल्म मिलने लगी। 1986 में प्रदर्शित फ़िल्म नगीना में एक सपेरे का अहम रोल निबाया था। उनका यह रोल दर्शको को बहुत अच्छा लगा था। उनका इस फ़िल्म में श्रीदेवी के साथ अभिनय काबिल ए तारीफ था।

 

बाद में अपनी कड़क आवाज़ और ख़ौफ़नाक लुक्स से बॉलीवुड में अपनी धाक जमाये राखी। उनकी जबरदस्त डायलॉग डिलीवरी के कारण 4 दसक तक और 30 साल से जयादा के करियर में 250 से जयादा फिल्मो में काम कर चुके है।अमरीश पूरी का नाम मिस्टर इंडिया फ़िल्म में मोकम्बो के नाम से भी प्रसिद हुआ। लेकिन 72 साल की उम्र के बाद 12 जनवरी 2005 को अभिनेता अमरीश पुरी का बुधवार को बीमारी के बाद मुंबई में हिंदुजा अस्पताल में निधन हो गया, अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि पुरी को मस्तिष्क में खून का थक्के का सामना करना पड़ा और कोमा में फिसल गया, सूत्रों ने बताया कि उनका मलेरिया के लिए भी इलाज चल रहा था

 

Please follow and like us:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

%d bloggers like this: